Some Health Practical Experiments | कुछ स्वास्थ्य व्यावहारिक प्रयोग

स्वर ग्रंथो में कई प्रकरण ऐसे मिलते है , जिनका | स्पष्टतः श्वास क्रिया से कोई विशेष सम्बन्ध नहीं है| की स्वर शास्त्रियों ने चिकित्सा अथवा तंत्र ग्रंथो के इन प्रयोगों को बहुत उपयोगी पाकर अपनी पुस्तकों में सम्मलित कर लिया है , उनका परिचय नीचे दिया जाता है | इससे लाभ उठाया जा सकता है |


1) सिर दर्द होने पर दोनों हाथो की कोहनियों के ऊपर धोती के किनारे अथवा रस्सों से खूब कसकर बांध देना चाहिए | ऐसे करने से पांच - सात मिनट में ही सिर दर्द जाता रहेगा | कोहनी जोर से बाधनी चाहिए , जिससे रोगी को कुछ तकलीफ मालूम होने लगे और उसका ध्यान सिरको भूल कर उसी स्थान पर केन्द्रित हो जाय |


2) प्रतिदिन जब मलमूत्र त्याग करो , तब दातों की दोनों पंक्तियों को मिलाकर जोर - जोर से दबाये रखे | ऐसा करने से दांत मजबूत होते है और उनके रोग मिट जाते हैं |


3) भोजन के उपरांत हाथ मुह धोकर लकड़ी की कंघी से सिर के बाल काढने चाहिए | कंघी इस तरह चलानी चाहिए , जिससे कांटे कुछ - कुछ सिर में चुभे | इससे सिर सम्बन्धी कोई बीमारी तथा बाल व्याधि उत्पन्न होने का भय नहीं रहता |


4) कभी गर्मी में कही बाहर जाना हो तो , तोलिये से दोनों कानों को ढक लेना चाहिए | इससे लू लगने का डर नहीं रहता |


5) कुछ समय पद्मासन से बैठकर दातों की जड़ में जीभ का अग्रभाग दबाकर रखने से सब तरह की व्याधियाँ नष्ट होती हैं |


6) रक्त अपामार्ग ( लाल ओगा ) की जड़ को हाथ में बांध रखने से भूत , प्रेत आदि की बाधा मिट जाती है |


7) प्रातः सांय पद्मासन में बैठकर नाभि की ओर टकटकी लगाकर देखते हुए नाभि में वायु धारण और नाभि कन्द का ध्यान करने से मंदाग्री , अतिसार आदि पेट के रोग दूर होते हैं |


8) प्यास से व्याकुल होने पर ऐसा ध्यान करना चाहिए कि जीभ के ऊपर कोई खट्टी चीज रखी हुई है | शरीर गर्म होने पर ठण्डी वस्तु का और शीतल होने पर गर्म वस्तु का ध्यान करना चाहिए |


9) ललाट के ऊपर पूर्ण चन्द्र के समान ज्योति का ध्यान करने से आयु बढती है और कुष्ट आदि रोग दूर होते हैं | सिर गर्म होने या घुमने पर मस्तक में स्वेत वर्ण शरद चन्द्र का ध्यान करने से कुछ ही मिनट में शान्ति मिलती है |


10) श्याम वर्ण का ध्यान करने से वायु , लाल वर्ण का ध्यान करने से पित्त और श्वेत वर्ण का ध्यान करने से कफ के दोष दूर होते हैं |








6 views
  • Twitter
  • Facebook

©2020 by e-healthshiksha